Welcome, visitor! [ Register | LoginRSS Feed  | 

Comments Off on नवजात बेटे को गिरवी रखकर अस्पताल का बिल चुकाया

नवजात बेटे को गिरवी रखकर अस्पताल का बिल चुकाया

| News | December 24, 2015

mother-24-12-2015-1450937011_storyimageअस्पताल का बिल चुकाने के लिए एक मां ने अपने नवजात बेटे को रिटायर दोरागा के पास गिरवी रख दिया। समय पूरा होने पर रिटायर दारोगा को पैसे देकर महिला अपने बच्चे को मांगने पहुंची तो उसने उसे भगा दिया।

बुधवार को पीड़ित महिला न्याय के लिए फुलवारीशरीफ थाने पहुंची। महिला के बयान पर राजीवनगर निवासी रिटायर्ड दारोगा के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। पुलिस की तफ्तीश में पाया गया कि दारोगा की विवाहिता बेटी को कोई बच्चा नहीं है। उसने गिरवी रखे बच्चे को अपनी बेटी को सौंप दिया।

नौ माह से दारोगा कर रहा टालमटोल : पीड़ित महिला के मुताबिक डेढ़ वर्ष पूर्व किसी बात को लेकर उसके पति से रिश्ता टूटने लगा। पति-पत्नी का मामला कोर्ट तक पहुंच गया। बाद में वह तारेगना स्थित ससुराल से आकर फुलवारीशरीफ के नवरतनपुर निवासी जीजा के घर रहने लगी। उस समय दो माह की गर्भवती थी। समय पूरा होने पर उसने फुलवारीशरीफ के एक निजी अस्पताल में बेटे को जन्म दिया। अस्पताल का बिल चुकाने के लिए उसके पास पैसा नहीं था। बिल चुकाने के लिए महिला के जीजा ने दोस्त रिटायर्ड दारोगा से कर्ज में रुपए मांगे। दारोगा ने बिल भुगतान के बदले एक सप्ताह के लिए बच्चे को गिरवी रखने को कहा।

No Tags

351 total views, 1 today

  

Video Ads

Blog Categories